error:

MRI का फुल फॉर्म क्या होता है?

MRI: Magnetic resonance imaging

MRI का फुल फॉर्म होता है मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग। हिंदी में इसे चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग के नाम से भी जाना जाता है। MRI को एनएमआरआई और न्यूक्लियर मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग के नाम से भी जाना जाता है।

MRI विषयसूची (Table of content)
1. MRI का मतलब क्या होता है ?
2. MRI का उपयोग क्यों किया जाता है?
3. क्या MRI सब कुछ पता लगा सकता है?
4. CT Scan और MRi में क्या अंतर है?
5. MRI Scan कराने से पहले क्या करें?

MRI का मतलब क्या होता है ?

MRi रेडियोलॉजी में इस्तेमाल होने वाली एक मेडिकल इमेजिंग तकनीक है जो शरीर के अंदर की विस्तृत छवियों को बनाने के लिए चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगों का उपयोग करती है। ये तस्वीरें सामान्य और रोगग्रस्त ऊतक के बीच का अंतर दिखा सकती हैं।

MRI स्कैनर एक बड़ी मशीन होती है जिसके बीच में एक सुरंग होती है। आप एक टेबल पर लेट जाते हैं जो सुरंग में फिसलती है। मशीन जोर से गड़गड़ाहट और गुनगुनाती आवाज करती है, इसलिए शोर को रोकने में मदद करने के लिए इयरप्लग या हेडफोन दिए जाते हैं।

MRI का उपयोग क्यों किया जाता है?

MRI का उपयोग अक्सर मस्तिष्क, रीढ़ और जोड़ों की जांच के लिए किया जाता है। MRI का उपयोग स्ट्रोक, मल्टीपल स्केलेरोसिस और ब्रेन ट्यूमर जैसी स्थितियों के निदान के लिए किया जा सकता है। इसका उपयोग बायोप्सी या सर्जरी जैसी प्रक्रियाओं को निर्देशित करने के लिए भी किया जा सकता है।

एमआरआई स्कैन दर्द रहित होते हैं और आपको कोई नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। आपको किसी एनेस्थीसिया की आवश्यकता नहीं है, और आप तुरंत अपनी सामान्य गतिविधियों पर वापस जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें: ओपीडी का क्या मतलब होता है?

क्या MRI सब कुछ पता लगा सकता है?

नहीं, MRI सब कुछ पता नहीं लगा सकता। कुछ चीजें ऐसी हैं जो इस तकनीक के दायरे से बाहर हैं। हालांकि, एमआरआई मशीन मानव शरीर और उसके अंगों और प्रणालियों के बारे में बहुत सारी जानकारी प्रदान कर सकती है। अधिक शोध और विकास के साथ, यह संभव है कि एमआरआई तकनीक उस बिंदु तक आगे बढ़े जहां वह अब की तुलना में अधिक पता लगा सके।

CT Scan और MRI में क्या अंतर है?

mri and ct scan difference in hindi

CT Scan और MRI के बीच एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि सीटी स्कैन आपको एमआरआई की तुलना में अधिक रेडिएशन के संपर्क में लाते हैं। वास्तव में, सीटी स्कैन से आपको जितनी रेडिएशन प्राप्त होती है, वह लगभग उतनी ही होती है जितनी कि 10 वर्षों की अवधि में आपको सूर्य के प्रकाश और पृष्ठभूमि रेडिएशन जैसे प्राकृतिक स्रोतों से प्राप्त होने वाली रेडिएशन की मात्रा के बराबर होती है। MRi Scanner किसी भी आयनकारी रेडिएशन का उत्सर्जन नहीं करते हैं, इसलिए उन्हें आमतौर पर सीटी स्कैनर की तुलना में अधिक सुरक्षित माना जाता है।

आप यह लेख ICU पर भी पढ़ सकते हैं: क्या होता है जब एक मरीज को ICU में रखा जाता है?

MRI स्कैन कराने से पहले क्या करें?

एमआरआई स्कैन कराने से पहले, आपको सभी मेटल की वस्तुओं को हटा देना चाहिए। इनमें ज्वैलरी, हेयर क्लिप और पियर्सिंग शामिल हैं। आपको उन कपड़ों को उतारने के लिए भी कहा जाएगा जिनमें ज़िपर या मेटल से बने बटन हैं। स्कैन शुरू होने से पहले, कर्मचारियों को यह बताना सुनिश्चित करें कि आपके शरीर में पेसमेकर या अन्य मेटल उपकरण है या नहीं। इस्तेमाल की जा रही एमआरआई मशीन के प्रकार के आधार पर, आपको अपना चश्मा या डेन्चर उतारने के लिए भी कहा जा सकता है।

इसे भी पढ़ें:

बातचीत में शामिल हों

Full Form List